Sunday, February 20, 2011

आओ मिलकर वृक्ष लगायें


वृक्ष हमें फल देते हैं,
हमसे कुछ नहीं लेते हैं,
खुशियाँ बाँटे, खुशियाँ पायें।
आओ मिलकर वृक्ष लगायें॥
तरु हमें छाया देते हैं,
हम इनको पानी देते हैं,
आओ इनकी संख्या बढ़ाये।
आओ मिलकर वृक्ष लगायें॥
जब धूप हमें लगती है,
जब गर्मी हमें सताती है,
हम इनके नीचे थका मिटायें।
आओ मिलकर वृक्ष लगायें॥

पीयूष

12 comments:

  1. Sunder pryas ! piyush ko is nek kary hetu dheron shubhkaamnayen..........

    ReplyDelete
  2. बच्चे को पर्यावरण की इतनी चिंता करते देख कर ख़ुशी हुई. कविता सुन्दर सन्देश देती हुई सार्थक बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  3. कविता सुन्दर सन्देश देती हुई सार्थक बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  4. प्रकृति के प्रति गंभीर विचार
    और बहुत अच्छी रचना ...
    दोनों के लिए ढेरों अभिवादन .

    ReplyDelete
  5. pradushan ka nash karna jaroori hai ,aur ise pedh hi rok sakte hai .sundar .

    ReplyDelete
  6. पर्यावरण संबंधी प्रेरक रचना के लिए पीयूष को बधाई।
    इस शमा को जलाए रखिए।
    ======================
    दो दोहे
    =====

    यदि मानों तो वृक्ष हैं, अति सुशील संतान।
    मूल्यों का हर हाल में, ये करते हैं मान॥
    ------+-------+--------+--------+-----+-----
    अवगुण करते पूत के, प्राय: सपने खाक़।
    किन्तु वृक्ष निज जनक की, करें न नीची नाक॥
    ==============
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर और प्रेरक रचना!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर और प्रेरक रचना!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. कविता सुन्दर सन्देश देती हुई सार्थक बन पड़ी है
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  10. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया सन्देश के साथ सुन्दर सार्थक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete