Monday, February 14, 2011

पी. एस. भाकुनी जी द्वारा प्रेषित चार सुन्दर पंक्तियाँ


पी. एस. भाकुनी जी ने वृक्ष लगाने वालों का उत्साहवर्द्धन करते हुए चार सुन्दर पद्यमय पंक्तियाँ टिप्पणी स्वरूप प्रेषित की हैं। इसके लिये हम उनके हृदय से आभारी हैं।

सुखमय जीवन ,प्रदूषण रहित , शस्य श्यामला वसुंधरा
तुलसी का पावन एक पौंधा ,आंगन कर दे हरा-भरा
हरी-भरी हो धरती अपनी, महके घर- आंगन अपना
रंग- बिरंगे फूल खिले हों, कितना सुन्दर है सपना ?

बुरांश (एक प्रतीक ) http://pbhakuni.blogspot.com

3 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. कार्य प्रशंसनीय है

    ReplyDelete